Thread Rating:
  • 0 Vote(s) - 0 Average
  • 1
  • 2
  • 3
  • 4
  • 5
Swamiji ki ashram ka rape sex stories in hindi
#1
हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम साक्षी है और में एक 39 साल की एक शादीशुदा औरत हूँ, मेरी फेमिली में मेरे पति अरुण, केशव, सेजल, और शीना है और हमारी शादी हमारे घर वालो की मर्जी से हुई थी. हमारी शादी को 19 साल हुए थे और इसी बीच हमारी दो बेटियां हुई, बड़ी का नाम हमने बड़े प्यार से सेजल और छोटी का नाम शीना रखा. मेरे पति अच्छे दिखने वाले एक मध्यमवर्गीय परिवार के है और वो उस समय एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी करते थे, लेकिन कुछ समय बाद उनकी नौकरी चली गई.

फिर हम उस समय अचानक काम की तलाश में भोपाल शिफ्ट हुए थे, लेकिन मेरे पति को कोई काम नहीं मिल रहा था और वो कई दफ़्तरो में इंटरव्यू देने गये, लेकिन फिर भी उन्हें नौकरी नहीं मिल पा रही थी और इसी कारण हमारे घर में आए दिन झगड़े होने शुरू हो गये. अब घर तो पैसो से ही चलता है और एक आम आदमी की ज़रूरत कभी ख़त्म नहीं होती और कम पैसे होने की वजह से हम बहुत टाईम टेंशन में ही रहते थे. फिर एक दिन मुझे मार्केट जाते समय एक विज्ञापन दिखा, वो किसी बाबा के नाम से था, जिसे लोगों ने बहुत बड़ा दर्ज़ा दिया हुआ है और सभी लोग कहते थे कि वो मन की शांति प्रदान करते है और पूजा करके हर एक समस्याओ का निवारण निकालते है.

फिर मैंने घर पर जाकर अपने पति से यह बात की, लेकिन मेरे पति इन सब बातों में बिल्कुल भी विश्वास नहीं करते थे तो उन्होंने मुझसे कहा कि तुम्हे अगर जाना है तो जाओ, लेकिन मुझे इन सबके लिए मत कहना. फिर मैंने भी सोचा कि में उन्हे ज़्यादा क्यों कहूँ? और वैसे भी उन्होंने मुझे जाने की अनुमति दे ही दी थी, लेकिन मैंने एक दो बार और सोचा कि क्या करूं? क्योंकि मेरे घर की हालत बहुत बिगड़ गयी थी. फिर मैंने मजबूरन स्वामीजी से संपर्क करने की ठानी और सोचा कि हो सकता है उनके पास हमारी परेशानी का कोई उपाय हो.

फिर अगले दिन में नहाकर अच्छी सी साड़ी पहनकर स्वामी के आश्रम में गयी. स्वामी जी दिखने में 56-60 की उम्र के लग रहे थे और उनके आस पास भक्त जन बैठे हुए थे और उनके दोनों बाजू में दो लड़कियां करीब 30 की उम्र की सफेद साड़ी में खड़ी हुई थी. स्वामीजी भगवान और शांति की बाते कर रहे थे. फिर सत्संग खतम होने के बाद सब लोग एक एक करके स्वामीजी से मिलने जाने लगे और जब में उनके पास पहुँची तो वो मुस्कुराए और मुझे आशीर्वाद दिया और कहा कि पुत्री तुम्हारे माथे की लकीर देखकर लगता है कि तुम इस समय घोर कष्ट से गुजर रही हो, बताओ क्या कष्ट है? स्वामीजी तेरा हर कष्ट दूर कर देंगे, कल्याण हो पुत्री तेरा सारा कष्ट दूर हो जाएगा. फिर स्वामीजी से मिलने के बाद उन्होंने मुझे इंतज़ार करने को कहा और में साईड में जाकर इंतज़ार कर रही थी और सबके जाने के बाद स्वामीजी ने मुझे बुलावा भेजा, में उनके पास चली गयी.

स्वामीजी के साथ उनकी दो सेविका भी थी, जिन्होने सफेद साड़ी पहन रखी थी और एक शिष्य भी था, जिसने धोती पहनी हुई था. फिर स्वामीजी ने मुझे अपने सामने बिठाया और पूजा करने लगे, वो कुछ मंत्र का जाप कर रहे थे और उनकी सेविका पीछे दीपक लेकर खड़ी थी. स्वामीजी की आँखे बंद थी और वो अपने होंठ हिलाते जा रहे थे, जैसे कि मन में कोई मंत्र का जाप कर रहे हो.

फिर स्वामीजी ने आँखे खोली और फिर उन्होंने मुझे गम्भीरता से देखकर कहा कि जिसका डर था, वही हुआ. पुत्री तुम्हारी जन्म पत्रिका में दोष है, जिसकी वजह से तुम्हारे परिवार के विकास में अर्चन आ रही है और अब इसके लिए यज्ञ करवाना होगा और जल्द ही इसका उपचार करना पड़ेगा और पूजा करवानी होगी. फिर स्वामीजी की बात सुनकर में थोड़ा घबरा गयी और मैंने स्वामीजी से कहा कि स्वामीजी इसका कोई उपाय बताइए? में कोई भी पूजा करने के लिए तैयार हूँ.

फिर स्वामीजी ने कहा कि कल तुम स्वच्छ होकर नये वस्त्र डालकर बिना सिंदूर लगाए और मंगलसूत्र पहने करीब 12:30 बजे आश्रम में आ जाना, हम कल से पूजा शुरू कर देंगे, लेकिन ध्यान रहे कि किसी को भी इस पूजन के बारे में मत बताना, वरना विघ्न पड़ जाएगा.

फिर में वहां से निकलकर सीधे अपने घर आ गयी, लेकिन यह सोचकर कि मेरी कुंडली में दोष है और मेरी वजह से घर में परेशानियाँ हो रही है, में पूरी रात सो नहीं पा रही थी और में अपने आपको कोसती जा रही थी कि मेरी वजह से मेरे परिवार पर मुसीबत और पति पर अर्चन आ रही है. फिर मैंने ठान लिया कि अगर मेरी वजह से कोई भी मुसीबत आई है तो में ही इसे ठीक करुँगी.

फिर अगली सुबह में अपने पति को नाश्ता करवाकर अपने बच्चो को स्कूल छोड़ने के बाद वापस घर आई और तब तक मेरे पति भी नाश्ता करके दफ़्तर के लिए निकल चुके थे. फिर मैंने घर का सारा काम ख़त्म किया और फिर में नहाने चली गयी, में अच्छी तरह से नहाकर एक पीले रंग की साड़ी में तैयार हुई.

फिर में बिना सिंदूर लगाए और बिना मंगलसूत्र के स्वामीजी के आश्रम में चली गयी. वहां मैंने देखा कि आज आश्रम में कोई भी नहीं था, में वहां पर पहुंची तो गुरुजी की सेविकाओं ने मुझे अंदर का रास्ता दिखाया और वो खुद मुझे अंदर कमरे में लेकर गई, वहां पर अंदर एक बेड था और उस बेड के सामने वाली खाली जगह में स्वामीजी ने एक यज्ञ की वेदी को बनाया था.

फिर मैंने सोचा कि शायद स्वामीजी यज्ञ भी करते होंगे और फिर रात में यहीं पर सोते होंगे? तो मेरी सोच को रोकते हुए उनकी एक शिष्या बोली कि तुम बिल्कुल सही जगह पर आई हो. स्वामीजी तुम्हारी हर इच्छा पूरी कर देंगे और उनके पास बहुत बड़ी शक्ति है, अभी तुम उनके साथ पूजन में बैठो और हम लोग बाहर जाते है, तुमने किसी को बताया तो नहीं कि तुम यहाँ पर आई हो?

तो मैंने ना में सर हिलाया और फिर स्वामीजी ने मुझे बैठने के लिए कहा, हम वहीं फर्श पर बैठ गये और स्वामीजी मन्त्र बोलकर अग्नि में घी डाल रहे थे और वो मन्त्रों का उच्चारण करते जा रहे थे. फिर कुछ देर बाद एक सेविका बाहर से दूध का ग्लास लेकर आई, बाबा ने थोड़ा दूध अग्नि में डाला और फिर दूध को हाथ से पकड़कर कुछ मन्त्र बोला और फिर वो दूध मुझे पीने को कहा और बोले कि इसे पी जाओ, इससे तुम्हारी आत्मा पवित्र होगी. फिर मुझे डर लगा, लेकिन मैंने डरते डरते दूध हाथ में ले लिया और मैंने दूध एक ही घूँट में पूरा दूध पी लिया और दूध पीने के बाद मुझे कुछ अजीब सा लगने लगा.

फिर अचानक ही मुझे नशा सा चड़ने लगा और मेरी आँखो के आगे अंधेरा छाने लगा और में बेहोश सी होने लगी और में फर्श पर ही गिर पड़ी. फिर मुझे होश तो था कि क्या क्या हो रहा है, लेकिन में उसका विरोध नहीं कर पा रही थी और मुझे महसूस हुआ कि कुछ व्यक्ति मिलकर मुझे उठा रहे है और फिर उन्होंने मुझे पलंग पर लेटा दिया और में आँखें खोलकर सब देख रही थी, लेकिन में कुछ कर नहीं पा रही थी. फिर उस स्वामी ने अपने शिष्यो को बाहर इंतज़ार करने के लिए कहा.

स्वामीजी ने जाकर कमरे का दरवाज़ा बंद कर दिए और अंदर से कुण्डी लगा दी और फिर स्वामीजी मेरे पास आए और उन्होंने मेरी साड़ी का पल्लू खींचकर हटा दिया, वो मेरे सीने पर हाथ फेर रहे थे और कुछ मन्त्र बोलते जा रहे थे. फिर उन्होंने मेरी साड़ी को मेरे बदन से अलग कर दिया और अब वो मेरे सीने और पेट दोनों जगह हाथ फेरते जा रहे थे, जिसकी वजह से मुझे उत्तेजना हो रही थी. फिर मेरे बदन में एक अजीब सी सिहरन होने लगी और मेरे पेट पर हाथ फेरते-फेरते वो मेरी नाभि में अपनी उंगली बार-बार घुसा रहे थे.

फिर वो ऊपर आए और एक-एक करके मेरे ब्लाउज का हुक खोलने लगे और मेरी आँखे अपने आप बंद होने लगी. फिर उसके बाद वो मुझसे लिपट गये और अपना हाथ पीछे ले जाकर मेरी ब्रा का हुक पीछे से खोल दिया और उन्होंने मेरे ब्लाउज और मेरी ब्रा को निकालकर मुझसे अलग कर दिया. फिर में शरम से मरी जा रही थी, लेकिन में उस नशीले दूध की वजह से बिल्कुल बेबस थी और में कमर से ऊपर बिल्कुल नंगी हो गयी थी.

फिर उन्होंने हाथ में कोई सुगंधित तेल लिया और वो मेरे सीने पर मलने लगे. मेरी धड़कन बहुत तेज़ी से चल रही थी और मेरी साँसे ऊपर नीचे हो रही थी और मेरे बदन से उस सुगंधित तेल की वजह से एक मस्त खुशबू आने लगी. स्वामीजी मेरे पास में बैठ गये और मेरे बूब्स को दबाने लगे और मेरे निप्पल को सहलाने और दबाने लगे, वो मेरी बिगड़ती हालत को देख रहे थे और समझ रहे थे.

फिर मुझे नशे में उनकी यह हरकत अच्छी लगने लगी और मेरे बदन में एक अजीब सी हलचल होने लगी. वो मेरे बूब्स को बार-बार दबा रहे थे और मेरे एक-एक निप्पल से बारी-बारी से खेल रहे थे. फिर वो और करीब आए और मेरे बूब्स को अपने मुहं में लेकर चूसने लगे थे और स्वामीजी मेरे बूब्स को चूसते चूसते उसे बीच-बीच में काट भी रहे थे और बूब्स चूसते हुये वो मेरी नाभि में भी उंगली घुसाते जा रहे थे और मुझे उनकी सारी हरकते बहुत अच्छी लग रही थी, मुझे ऐसा लग रहा था कि मानो बहुत दिन बाद कोई मेरी निप्पल को चूस रहा हो. अरुण ने कई दिन से मुझे छुआ भी नहीं था, क्योंकि वो अपनी परेशानियों में ही घिरा रहता था और मुझे आज पता लग रहा था कि मेरे बदन में आज भी आकर्षण है, यानी में आज भी किसी को पागल बना सकती हूँ.

स्वामीजी बोलते जा रहे थे, तुम एकदम शांत होकर इस पूजा का आनंद लो, में तुम्हारी सब परेशानी दूर कर दूँगा, तुम्हारे बदन को एकदम पवित्र करना पड़ेगा. फिर स्वामीजी ने मेरी गर्दन पर होंठ लगा दिए और चूमने लगे. फिर एक बूब्स को चूमना शुरू किया और मेरे दूसरे बूब्स को दबाते जा रहे थे और वो साथ साथ कुछ मंत्र भी बोलते जा रहे थे, वो बहुत मादक माहौल था.

उस कमरे में एक दीपक जल रहा था और अग्नि वेदी से निकलने वाली रोशनी से कमरा नहा रहा था और पूरा कमरा सुगंधित था और मेरे ऊपर स्वामीजी नंगे बदन में झुके हुए थे, मेरे भी बूब्स नंगे थे. फिर उन्होंने मेरे होंठो पर अपने होंठ रखे और मेरे होंठो को चूसना शुरु किया, मेरे होंठ चूसते हुये उन्होंने अपनी जीभ को मेरे मुहं में घुसा दिया और उनकी जीभ में एक अजीब सा स्वाद था और वो मेरी जीभ को चूसने लगे. मुझे महसूस हो रहा था कि वो मेरे मुहं के अंदर चाट रहे है. फिर वो उठकर मेरे चेहरे को देखने लगे कि कहीं में परेशान तो नहीं लग रही, लेकिन उन्हे मेरे चेहरे से एक खुशी की झलक मिली.

फिर स्वामीजी बोले क्यों कैसा लग रहा है पुत्री? तुम्हारे दिल में जो भी परेशानी है दिल से निकाल दो, में दिल पर मंत्रो से उपचार कर रहा हूँ और फिर वो ज़ोर ज़ोर से मंत्र उच्चारण करने लगे और बाहर बैठे हुए उनके शिष्य भी ज़ोर ज़ोर से मंत्रोचारण करने लगे. फिर मुझे लगा कि में किसी स्वर्ग में हूँ और अब मेरी चुदाई होने वाली है और मुझे लगा कि अब स्वामीजी मुझे चोदकर ही छोड़ेंगे और शायद उनके शिष्य भी मेरी इस नशे की हालत का फायदा उठाएँगे और अगर में विरोध करती हूँ तो यह मुझे मार डालेंगे और किसी को कुछ पता भी नहीं चलेगा.

फिर में वहां से भागना चाहती थी, लेकिन नशे की वजह से में कुछ नहीं कर पा रही थी, बस चुपचाप लेटकर उनकी क्रिया का आनंद ले रही थी. फिर स्वामीजी बोले कि अब तुम्हारा मुख पवित्र हो गया है और अब बाकी शरीर को भी पवित्र करना है और अब में नीचे की करूँगा, तुम मेरा साथ देती रहो. फिर तुम बिल्कुल उलझन मुक्त जीवन जी सकती हो. में नशे में थी और हिल भी नहीं पा रही थी, वो दोबारा तेल लेकर मेरी नाभि में मलने लगे और स्वामीजी मेरे पूरे बदन में हाथ फेर रहे थे और तेल की मालिश भी कर रहे थे. वो मेरे हाथों को चूमते चूमते नीचे की तरफ आने लगे और फिर मेरे बूब्स के बीच में उन्होंने चाटना, चूमना शुरू किया और किस करते करते वो मेरे पेट की तरफ बड़े.

फिर उन्होंने मेरे पेट पर चूमना शुरू किया और पास पड़े कटोरी से थोड़ा शहद निकालकर मेरी नाभि में डाल दिया और फिर उनका मुहं मेरी नाभि पर आया. फिर वो मेरी नाभि को चूसने लगे, वो मेरी नाभि के अंदर अपनी जीभ घुसाकर अंदर चाटने लगे और इतने में मेरी चूत में भी हलचल मचने लगी, तेल की सुगंध और दूध में मिला नशा मुझे मदहोश कर रहा था और अब में खुद चुदवाने को उत्सुक हो रही थी, मेरी आँखे रह रहकर बंद हो रही थी.

फिर स्वामीजी बोले कि शाबाश पुत्री, तुम बहुत अच्छे से पूजन में हिस्सा ले रही हो. में इसी तरह तुम्हारे पूरे बदन को पवित्र करूँगा और वो मेरी नाभि को चाटते चाटते मेरे पेटिकोट का नाड़ा खोलने लगे, उसे खोलने के बाद उन्हे मेरी गुलाबी कलर की पेंटी दिखी. फिर उन्होंने मेरा पेटीकोट और मेरी पेंटी खींचकर उतार फेंकी और ज़ोर ज़ोर से मंत्रोउच्चारण करने लगे.

फिर में अब बिल्कुल नंगी उनके सामने लेटी हुई थी और वो लगातार मेरी साफ चूत को देख रहे थे और मंत्र बोल रहे थे और फिर अपना हाथ मेरी नंगी चूत पर फेरने लगे और वो बोले कि अब समय आ गया है कि में तुम्हारे अंदर की गंदगी को साफ करूं और में अंदर इस पवित्र तेल की मालिश करता हूँ, तुम दिल से ऊपर वाले को याद करो, तुम्हे पता है कि योनि देवी पार्वती का रूप है और अब अपनी दोनों टाँगे खोलो पुत्री.

फिर उन्होंने मेरे पैर पकड़कर फैला दिया और मेरे पैरों के बीच में आकर बैठ गये और वो मेरी चूत पर अपना हाथ घूमा रहे थे और कुछ बड़बड़ाते जा रहे थे. फिर हाथ में तेल लेकर चूत के ऊपर लगाया और मालिश करने लगे. चूत के होंठ उनके छूने से कांप रहे थे, मानो उनमें भी जान आ गई हो. वो उंगली से चूत के होंठ पर मालिश किए जा रहे थे और फिर मुझे महसूस हुआ कि वो मेरी चूत में अपनी उंगली घुसा रहे थे और उन्होंने अपनी उंगली मेरी चूत के अंदर बाहर करना शुरू कर दिया था और वो मेरे चूत के दाने को छेड़ने लग गये और फिर दोबारा शहद लेकर चूत पर उड़ेल दिया. शहद और तेल मिलकर कयामत ढा रहे थे.

फिर नीचे झुके और उन्होंने उंगलियों से मेरी चूत की पलके फैला दी और छेद पर किस करना शुरू कर दिया और बीच बीच में वो अपनी जीभ मेरी चूत के अंदर भी डाल रहे थे और फिर वो उसे मेरी चूत के बहुत अंदर तक घुमा कर रहे थे और मेरी चूत से गीलापन निकलने लगा. शहद और चूत का रस दोनों स्वामीजी मज़े से चाट रहे थे.

फिर स्वामीजी बोले कि बहुत स्वादिष्ट है पुत्री तुम्हारी योनि का रस जी करता है कि हमेशा पीता रहूँ, लेकिन पहले तेरी मुश्किल का हल ढूँढना है बच्चा. फिर मुझे ऐसी इच्छा हो रही थी कि जैसे वो मेरी चूत चूसते रहे और हटे नहीं. फिर उन्होंने अपनी तेल से भीगी हुई उंगली को मेरी गांड में घुसेड़ दिया और एक ही झटके में उनकी बीच वाली उंगली मेरी गांड में समा गयी और वो मेरी चूत को चूस रहे थे और साथ ही साथ गांड में उंगली भी कर रहे थे और मुझ पर वो दोहरा वार हो रहा था. वासना से मैंने आँखे बंद कर रखी थी और अब मेरी चूत पानी छोड़ने वाली थी, में उन्हे हटाना चाहती थी, लेकिन मुझमें इतनी शक्ति नहीं थी कि में ऐसा कर सकूं और में तो आँखें बंद करके उनकी चूत चूसने का मज़ा ले रही थी.

फिर उन्होंने मेरी चूत को बहुत देर तक चूसा और अब वो घड़ी आ ही गयी, जिसका मुझे इंतज़ार था. फिर मैंने स्वामीजी के मुहं पर बहुत ज़ोर से पानी छोड़ा तो मुझे शरम भी आने लगी, लेकिन स्वामीजी पूरे मज़े से मेरी चूत का पानी पीने लगे और में उनके मुहं में ही झड़ गई. फिर स्वामीजी ने मेरी चूत के पानी को पूरा पी लिया, वो उठे और मेरे ऊपर लेट गये और उनके होंठ मेरे होंठ पर थे और में खुद उनके होंठ को चूसने लगी और उनके मुहं से मुझे अपनी चूत के पानी का स्वाद मिलने लगा.

स्वामीजी फिर से बोले कि बहुत स्वादिष्ट था तेरी योनि रस, तुम क्या खाती हो कि तुम्हारी चूत इतनी मीठी है? तेरा पति कितना किस्मत वाला होगा जो रोज़ इसका रसस्वादन करता होगा? स्वामीजी को क्या मालूम कि अरुण कभी मेरी चूत नहीं चूसता, क्योंकि वो चूत को बहुत गंदा मानता है और चूसना तो दूर की बात है, वो कभी चूत पर किस भी नहीं करता है, लेकिन आज स्वामीजी ने मुझे ज़न्नत दिखा दी. फिर उन्होंने अपने हाथ से अपने लंड को मेरी चूत पर सेट किया और फिर ज़ोर से एक धक्का लगाया और स्वामीजी का मोटा लंड एक ही बार में मेरी चूत में पूरा का पूरा घुस गया. मुझे याद नहीं कि उनके लंड का साईज़ क्या है?

स्वामीजी फिर से मंत्र बोलने लगे और बूब्स चूसने लगे. में नीचे से धक्के मारने के लिये उनको इशारा करने लगी. फिर स्वामीजी ने मेरी चूत को चोदना शुरू कर दिया और वो ज़ोर ज़ोर से अपने मोटे लंड को मेरी चूत के अंदर बाहर कर रहे थे और स्वामीजी मेरी चूत की चुदाई करते करते मेरे होंठो को चूम रहे थे और साथ साथ मेरे बूब्स को भी दबाते जा रहे थे और मेरी निप्पल को अपनी उंगलियों के बीच मसलते जा रहे थे. फिर मुझे बहुत दर्द हो रहा था, लेकिन में कुछ नहीं कर पा रही थी और वो नशा भी ऐसा था कि मेरे पूरे बदन में एकदम गर्मी छा गयी और मुझे उनका बदन भी गीला महसूस होता जा रहा था, जैसे कि वो पसीने में भीगे हुए है. वो मुझे हर जगह चूमते चाटते जा रहे थे और मेरी चूत में ज़ोर से लंड अंदर बाहर करते जा रहे थे और उन्होंने ऐसा लगभग 15 मिनट तक किया होगा.

फिर मुझे महसूस हुआ कि में दोबारा झड़ने वाली हूँ और मैंने आँखे बंद की और बदन ढीला किया तो में बोल पड़ी आऊऊओह्ह्ह्ह्ह माँ आईईईईईइ में पानी छोड़ रही हूँ और स्वामीजी ने भी अपना बदन ढीला किया तो में समझ गई कि वो भी झड़ने वाले है. फिर अचानक मुझे मेरे पेट के अंदर गरम पानी भरने जैसा महसूस हुआ और में समझ गयी कि वो मेरे अंदर ही झड़ गये है और झड़ने के बाद वो मेरे ऊपर ही कुछ देर लेटे रहे.

फिर वो मेरे ऊपर से उठे और बाथरूम में चले गये और मुझे अंदर से पानी चलने की आवाज़ आ रही थी. फिर थोड़ी देर बाद स्वामी जी नहाकर बाथरूम से बाहर निकले और मुझे वैसा ही छोड़कर वो खुद कपड़े डालकर बाहर चले गये और में अंदर नंगी लेटी हुई थी और मुझे पता ही नहीं चला कि कब मेरी आँख लग गई और जब मुझे होश आया तो भी मेरा सर घूम रहा था, लेकिन अब में अपने हाथ पैर घुमा पा रही थी, मेरे पूरे शरीर में दर्द हो रहा था और शरीर अकड़ गया था. दिल कर रहा था कि कोई मुझे मालिश कर देता, लेकिन वहाँ ऐसा कौन मिलता? में अपनी हालत पर रो रही थी और मुझे इतना भी होश नहीं था कि में उस वक़्त तक नंगी ही थी.

फिर मैंने अपनी चूत को सहलाया तो दर्द से राहत मिली. चूत के होंठ फूल गये थे और दर्द भी था और चूत के ऊपर स्वामीजी का वीर्य लगा हुआ था, जो अब बहुत हद तक सूख गया था. स्वामीजी के मोटे लंड ने मेरी चूत का भरता बना दिया था और में अपनी चूत को मसलने लगी और मुझे कुछ आराम सा मिला में और चूत सहलाने लगी. फिर मैंने एक उंगली को चूत के छेद में घुसा दिया, चूत से स्वामीजी का वीर्य बह रहा था और मेरी उंगली अंदर तक चली गयी. फिर मुझे इतना मज़ा आने लगा कि में उंगली से चूत की चुदाई करने लगी और मेरी आखों के सामने स्वामीजी की चुदाई घूमने लगी और में पूरी तरह मग्न होकर योनि में उंगली कर रही थी, तभी हल्की सी आवाज़ हुई और में एकदम चौंक सी गयी, मेरा पानी निकलने वाला था और मैंने चूत को सहलाना जारी रखा और आँख खोला तो क्या देखती हूँ? कि स्वामीजी का एक शिष्य दरवाजे पर खड़ा मुझे देखा रहा था और उंगली से चूत को सहलाने और चोदने से मुझे बहुत मज़ा आने लगा था और जिससे मेरी आवाज़ निकल गई और स्वामीजी का वो शिष्य पास के कमरे से उठकर मेरे कमरे में आ गया.

फिर वो मुझे नंगी हालत में देखकर घबरा गया, लेकिन जब उसकी नज़र मेरे नंगे पैरों, जांघो की तरफ गई तो वो देखता ही रह गया और फिर मेरी चमकती हुई चूत उसे अपनी और खींच रही थी, लेकिन में भी बिना रुके उंगली तेज़ी से अपनी चूत में अंदर बाहर करती रही और वो दिन मेरे लिए बहुत खास था, क्योंकि आज पहली बार मुझे किसी पराए पुरुष ने चोदा था और अब पहली बार एक पराया पुरुष मुझे अपनी उंगली से चूत चोदते हुए नंगी देख रहा था और अब मुझे भी मज़ा आने लगा था.

फिर मैंने अपने पैरों को और फैला दिया और उसे अपनी चूत के दर्शन कराती रही और कुछ देर बाद वो बोला कि आप स्वामीजी की प्रिय भक्त है और आपको ऐसा नहीं करना चाहिए, बाहर स्वामीजी आपकी प्रतीक्षा कर रहे है. फिर मैंने कहा कि स्वामीजी के प्रिय भक्त आपको आदेश देती है कि मुझे कुछ समय दे, आप वहाँ पर क्यों खड़े हो? आओ और मेरे साथ यहाँ बैठकर देखो. फिर वो मेरे करीब आ गया और ध्यान से मेरी चूत को देखने लगा और उसी वक़्त में ज़ोर से चिल्लाई, उह्ह्ह्ह उूईईईईईई माँआआआ में गई और में शरीर को ढीला करके झड़ गयी. फिर यह नज़ारा देखकर वो शिष्य जिसका नाम विशेष था, उसकी आँखे फटी की फटी रह गयी और वो अपना हाथ अपने लंड पर रगड़ने लगा.

फिर मैंने उसकी धोती की तरफ देखा तो उसका लंड धोती से बाहर झाँक रहा था. में उसका खड़ा हुआ लंड देखकर और गरम होने लगी और विशेष के साथ बेड पर बैठ गयी और मुझे उसका लंड पकड़ने का दिल करने लगा, उसकी और मेरी साँसे तेज़ चलने लगी और जबकि में आज दो बार झड़ चुकी थी. फिर मैंने अपनी आँखे बंद की और अपना चेहरा विशेष की तरफ बढ़ाया, जिससे उसे मेरे मन की बात पता चले.

फिर उसने मेरा इशारा समझा और अपने होंठ मेरे होंठ पर रख दिए और हम दोनों एक दूसरे के होंठ चूमने और चूसने लगे और उसने अपनी जीभ को मेरे मुहं में घुसा दिया और में मज़े से उसे चूसने लगी और मेरे पति अरुण ने कभी मुझसे ऐसे किस नहीं किया था. फिर उसका हाथ मेरे बूब्स पर पहुँच गया और में एकदम शांत होकर उसके अगले कदम की प्रतीक्षा करने लगी और उसकी जीभ चूसती रही.

फिर कुछ देर के बाद विशेष ने मेरे बूब्स को मसलना शुरू कर दिया, मेरे निप्पल एकदम कड़क हो गये और तन गये. फिर विशेष ने अपना मुहं मेरे होंठ से हटाया और मेरे निप्पल को चूसने लगा और वो पाँच मिनट तक मेरे निप्पल को चूसता रहा, कभी एक निप्पल तो कभी दूसरा निप्पल. फिर मैंने उसका सर पकड़ा हुआ था और वैसा महसूस कर रही थी, जैसा कि एक माँ अपने बच्चे को दूध पिलाते वक़्त महसूस करती है और उसकी इन हरक़तो से में अपने शरीर में उठता हुआ दर्द भूल सी गयी और उसकी आगोश में खो गयी. तभी विशेष ने अपने मुहं को मेरे बूब्स से अलग किया और में उसकी तरफ प्यासी निगाहों से देखने लगी.

फिर उसके बाद वो मेरे सामने खड़ा हो गया और उसने अपनी धोती को खोलकर अलग कर दिया, वो अब मेरे सामने नंगा खड़ा था और उसका फड़फड़ाता हुआ लंड मेरी आँखो के सामने हिचकोले खा रहा था. फिर में एक टक उसके मोटे लंड को देखती रही और मेरा दिल किया कि उसे मुहं में लेकर चूस लूँ. फिर उसने अपने लंड को मेरे मुहं के सामने करके कहा कि इसको चूसो, ले लो इसे अपने मुहं में और छू लो इसे, बहुत मज़ा आएगा. दोस्तों पहले तो मुझे बहुत अजीब सा लगा कि इतनी गंदी चीज़ को में मुहं में कैसे लूँ?

मैंने अपना मुहं सिकोड़कर कहा कि लेकिन यह तो गंदा होता है, में इसे मुहं में नहीं ले सकती. फिर विशेष बोला कि तुम इसको एक बार मुहं में लो तो ऐसा मज़ा आएगा कि तुम लंड को मुहं से निकालने को तैयार ही नहीं रहोगी और देखो यह कैसे फनफ़ना रहा है.

फिर विशेष ने अपने लंड को मेरे मुहं से लगा दिया और में उसको मुहं में लेकर चूसने लगी, शायद स्वामीजी ने जो दवा पिलाई थी, उसका असर अभी तक बाकी था. विशेष को बहुत मज़ा आ रहा था और उसके मुहं से आवाज़ें निकलने लगी, उह्ह्ह्ह और ज़ोर से हाँ और ज़ोर से और मेरी चूत से भी पानी निकल रहा था, यह सोच सोचकर कि में पहली बार किसी का लंड चूस रही थी और वो भी एक पराए मर्द का.

फिर विशेष ने मेरा सर पकड़ लिया और धक्के मारने लगा और विशेष मेरे मुहं में अपने लंड को अंदर बाहर करने लगा और तीन मिनट के बाद मुझे उसके लंड में अजीब सी सिहरन महसूस होने लगी और में समझ गयी कि अब वो पानी छोड़ेगा और में अपने मुहं से उसका लंड हटाने लगी, लेकिन विशेष ने मुझे ऐसा करने नहीं दिया और उसने मेरा सर दोनों हाथों से पकड़ रखा था, उसका लंड मेरे मुहं में ही रहा और वो झड़ने लगा.

में उसके लंड का वीर्य पीना नहीं चाहती थी, लेकिन तब तक देर हो चुकी थी और उसने मेरे मुहं में वीर्य का फव्वारा ज़ोर से छोड़ा और उसके लंड से पानी निकलकर मेरे मुहं में भरने लगा और उसके वीर्य का स्वाद उतना बुरा नहीं था. फिर मैंने लंड पर होंठो को दबा लिया और उसका सारा पानी मेरे मुहं में चला गया और में पी गयी. उसके लंड का पानी पीने के बाद में दोबारा से उसके लंड को चूसने लगी, क्योंकि मेरा मन नहीं भरा था. हे भगवान में एक ही दिन में सती सावित्री नारी से एकदम हलकट हसीना बन गयी थी, पता नहीं स्वामीजी ने दूध में मिलाकर मुझे क्या पिलाया था.

फिर कुछ देर बाद विशेष ने कहा कि अब तुम लेट जाओ, में तुम्हारी चूत चूसूंगा, इतनी मस्त चूत बहुत कम लोगों को नसीब होती है. फिर में पलंग पर लेट गई और विशेष ने मेरे पैरों को फैलाया, वो मंत्रमुग्ध सा मेरी चूत को देख रहा था, मेरी साफ सुथरी और चिकनी चूत जो स्वामीजी की चुदाई के बाद भी होंठ हिला रही थी. फिर विशेष ने अपना मुहं मेरी चूत पर रख दिया और चूत के होंठ चूमने लगा. उसने अपनी जीभ निकाली और अपनी जीभ से मेरी चूत को चाटने लगा और उसकी गरम जीभ मेरी चूत के दाने को छू रही थी.

फिर वो बार बार अपनी जीभ से मेरी चूत के दाने को सहलाता और चूसता. में हर बार दुगने जोश से उसके सर को अपनी चूत पर धकेलती और में भी उससे बोलने लगी, ऊऊऊऊहह तुम बहुत मज़ेदार हो. इस चूत ने इतना मज़ा पहले कभी नहीं लिया, अम्म्म्ईईईईईई और चूसो मेरे राजा, ज़ोर से चूसो, आज मेरी चूत को ज़ोर से चाटो, बाद में पता नहीं फिर मौका मिले ना मिले, आह्ह्हहह यार तुम महान हो ऊऊहहऊओह हाँ बहुत मज़ा आ रहा है और बहुत अच्छा लग रहा है यार, तुम तो बहुत गरम हो.

फिर मेरी ऐसी बातें सुनकर वो और ज़ोर ज़ोर से मेरी चूत चूसने लगा और जीभ से चूत चोदने लगा. फिर में इतनी मस्ती से अपनी चूत चुसवा रही थी और में भूल गयी कि में एक शादीशुदा औरत हूँ और वो एक पराया मर्द है और थोड़ी ही देर में वो वक़्त आ गया और मेरी चूत में छटपटाहट होने लगी. फिर मैंने ज़ोर ज़ोर से सांस लेने लगी और मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया और मेरी चूत से पानी निकलने लगा. मेरी चूत के रस को विशेष अपनी जीभ से चाटने और चूसने लगा, उसकी इस हरक़त से में तो जोश में पागल हो गयी.

फिर मैंने उसके बालों को ज़ोर से पकड़ लिया और खींचने लगी, उसे दर्द भी हुआ होगा. उसने कुछ नहीं कहा और मेरा आम रस चूसता रहा और क़रीब पाँच मिनट के बाद विशेष ने मुझे नीचे लेटा दिया और खुद मेरे ऊपर आ गया. उसने मेरी टाँगों को अपने कंधो पर रखा और लंड चूत के मुहं पर रख दिया. फिर अपने लंड को चूत के छेद पर सेट करने के बाद अंदर की तरफ धक्का दिया. मेरी चूत का छेद उसके मोटे लंड को अंदर नहीं ले पाया, क्योंकि मेरी चूत का छेद पूरी तरह से फैल गया तो में दर्द से चीखने लगी, ऊऊईईईईईईई उह्ह्ह्ह माँ में मर गईईईईईई प्लीज बाहर निकालो अपने लंड को.

फिर उसने मेरे पैर कंधे से उतारे और फैलाकर अपने दोनों साईड पर कर दिए और फिर अपने लंड को मेरी चूत में डाल दिया. उसने अपने लंड को मेरी चूत में डाला तो लगा कि जैसे किसी ने गरम लोहे का सरिया मेरी छोटी सी चूत में घुसेड़ दिया हो. अब तक मेरी चूत बिल्कुल खुश हो चुकी थी और ऐसा लग रहा था कि जैसे किसी कुँवारी लड़की की चूत हो और मुझे दर्द भी होने लगा, लेकिन मुझे मज़ा भी लेना था.

फिर थोड़ी देर बाद मुझको मज़ा आने लगा, में भी विशेष को कहने लगी और में बोली कि चोदो मुझे जल्दी करो ओहह्ह्ह तुम बहुत ज़ालिम हो, लेकिन बहुत अच्छे भी अह्ह्ह थोड़ा आराम से करो और प्लीज़ अपने लंड पर तेल लगा लो, ऐसे सूखा लंड अंदर जाने से तकलीफ़ होती है. तुमने कहाँ से सीखा यह सब? मुझे बड़ा मज़ा आ रहा है और मुझे ऐसा मज़ा कभी भी नहीं आया, तुम एकदम अनुभवी हो चोदने में, अहह आराम से क्या आज ही मेरी चूत फाड़नी है? और क्या एक ही दिन में सब बर्बाद कर दोगे? मुझे घर भी जाना है और मेरे पति ने मुझे ऐसे देख लिया तो गजब हो जाएगा. में उन्हे क्या जवाब दूँगी साले? में तुम्हारे स्वामीजी की प्रिय भक्त हूँ यार, कुछ तो रहम करो धीरे धीरे चोदो मुझे आअहह प्लीज़ में सच कह रही हूँ, मुझे दर्द हो रहा है प्लीज आराम से करो ना, लेकिन विशेष ने अपनी स्पीड कम नहीं की, क्योंकि अब मेरी चूत एक कुँवारी लड़की की चूत बन चुकी थी और उसे चुदाई में बहुत मज़ा आ रहा था.

फिर वो दोगुनी स्पीड से मुझे चोदता जा रहा था और में उससे मन्नते कर रही थी, आअहह यार आज मेरी चूत बहुत टाईट है और ज़ोर से पूरा अंदर डालो उूईईईईईई करो और ज़ोर से और विशेष रुक रुककर धक्के मारने लगा. 15 मिनट के बाद में झड़ गयी, लेकिन विशेष का लंड अभी भी खड़ा ही था और वो पूरे ज़ोर से हिलाता रहा तो दस मिनट के बाद मेरी चूत ने फिर से पानी छोड़ दिया और साथ ही विशेष के लंड से भी पानी निकलने लगा. उसने अपने शरीर को कड़क किया और वीर्य का फव्वारा छोड़ दिया.

फिर मैंने उसे ज़ोर से जकड़ लिया और बोली कि ओह्ह्ह माँ इतना गरम वीर्य. अब तो रुक जाओ, मेरी जान निकल चुकी है. फिर विशेष करीब दो मिनट तक मेरी चूत में अपना वीर्य छोड़ता रहा, वो थक गया और मेरे ऊपर ही लेट गया और जब थोड़ी देर बाद हम उठे तो मैंने देखा कि मेरी जांघो पर और पलंग पर खून लगा हुआ था और विशेष ने मेरी चूत फाड़ दी थी. अपनी ऐसी हालत देखकर में एकदम घबरा गयी तो विशेष ने कहा कि कोई बात नहीं, कभी कभी ऐसा होता है. चलो अब में चलता हूँ, स्वामीजी बुला रहे है, तुम भी तैयार होकर बाहर आ जाना, लेकिन इसे पहले अच्छे से धो लेना, ताकि खून बहना बंद हो जाएगा और वो चला गया, लेकिन में इतना थक गई थी कि में दोबारा सो गयी. में दो घंटे के बाद उठी और वॉशरूम गई तो मुझसे चला भी नहीं जा रहा था.

फिर भी मैंने अपने आपको संभाला, ताकि किसी को कोई शक ना हो जाए, में उठी और बाथरूम में गयी. फिर मैंने महसूस किया कि मेरी चूत का होंठ फूल गया था और मुझसे ठीक से चला नहीं जा रहा था और में किसी तरह से दीवार का सहारा लेकर बाथरूम तक पहुँची और शावर चालू करके नहाने लगी तो मेरी चूत से अभी तक वीर्य निकल रहा था, लेकिन मुझे नहीं पता कि वो स्वामीजी का था या विशेष का.

पिछली बातों को याद करके मेरी आँखो से आँसू बहने लगे और मैंने चूत को अंदर उंगली डाल डालकर अच्छे से साफ किया और खुद को साफ करने के बाद मैंने अपने कपड़े पहने और बाहर आ गयी तो बाहर स्वामीजी अपने सभी शिष्यो के साथ बैठे हुए थे और जैसे ही में बाहर आई तो स्वामीजी मेरे पास आए और स्वामीजी मुझसे बड़े प्यार से बोले कि पूजा सफल हुई, अभी के लिए दोष दूर हो गया है और तुम चिंता मत करो, तेरा काम हो गया है. पुत्री अगर काम हो जाए तो एक किलो लड्डू हनुमान जी को चड़ाने ज़रूर आना और स्वामीजी ने बहुत नम्रता से मेरे आँसू साफ किए और प्रसाद कहकर उन्होंने मेरे हाथों में कुछ मिठाइयां दी और कहा कि वो में खुद भी खाऊँ और अपने घर में सबको खिलाऊँ. में 5 बजे वहां से निकलकर वापस अपने घर आ गयी.

फिर में पूरे टाईम मन में ग्लानि हो रही थी और में सोच नहीं पा रही थी कि क्या यह बात में अपने पति को बताऊँ कि नहीं. में सोचने लगी कि अब से में उस स्वामी के पास नहीं जाउंगी, शाम को जब मेरे पति आए तो वो बहुत खुश लग रहे थे. फिर उन्होंने कहा कि उन्हे किसी बड़ी कंपनी में मैनेजर की नौकरी मिल गई है और उनकी पगार 50,000/- महीने है और यह बात सुनकर में हैरान रह गयी.

फिर मैंने सोचा कि यह तो चमत्कार हो गया, अब मुझे स्वामीजी पर विश्वास हो गया. अगले दिन से मेरे पति हर रोज नौकरी पर जाने लगे थे और में स्वामीजी के पास गयी और उन्हे खुश खबरी सुनाई. फिर उन्होंने कहा कि यह में जानता ही था कि एक बार कालदोष हट गया तो सब ठीक हो ही जाएगा, लेकिन तुम चाहती हो कि यह ऐसा ही चलता रहे तो तुम अक्सर आती रहा करो, में मन से तुम्हारे लिए पूजन करता रहूँगा. में फिर से स्वामीजी की बातों में आ गयी और अब स्वा
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Choot ke Balatkar ka Chitra(Indian hardcore rape sex stories) SexStories 0 6,607 02-08-2015, 11:09 PM
Last Post: SexStories
  Talakasuda ki cuta ki pyasa..(Hindi divorcee rape sex stories) SexStories 0 3,772 01-08-2015, 12:31 PM
Last Post: SexStories
  Aja puja chudane ke muda mem hai....Hard core hindi rape sex stories SexStories 0 2,298 17-07-2015, 01:34 PM
Last Post: SexStories

Forum Jump:

Best Indian Adult Forum Free Desi Porn Videos XXX Desi Nude Pics Desi Hot Glamour Pics Indian Sex Website
Free Adult Image Hosting Indian Sex Stories Desi Adult Sex Stories Hindi Sex Kahaniya Tamil Sex Stories
Telugu Sex Stories Marathi Sex Stories Bangla Sex Stories Hindi Sex Stories English Sex Stories
Incest Sex Stories Mobile Sex Stories Porn Tube Sex Videos Desi Indian Sex Stories Sexy Actress Pic Albums